पेशाब के बारे में रोचक तथ्य ( AMAZING FACTS ABOUT URINE IN HINDI )

AMAZING FACTS ABOUT URINE  IN HINDI

  1. हमारा मूत्र इक्ट्ठा करने वाली थैली केवल 2.5 कप यानि 400 से 600 ML पेशाब स्टोर कर सकती है, जबकि हाथी की थैली 50 लीटर तक कर सकती है |

 

  1. एक ओसतन इन्सान दिन में 7 बार पेशाब करने जाता है, और लगभग 6.3 कप पेशाब करता है, यह आपकी DIET पर निर्भर करता है |

 

  1. शरीर से पेशाब “ URETHRA “ नाम की ट्यूब से होकर बाहर निकलता है, महिलाओं में इस ट्यूब की लम्बाई मात्र 1.2 से 1.6 इंच होती है, जबकि पुरुषों में इसकी लम्बाई 8 इंच तक होती है |

 

  1. यदि आप सपने में कहीं पर पेशाब कर रहे हो तो इस बात के बहुत ज्यादा चांस हैं, कि आप बिस्तर पर ही पेशाब कर दोगे |

 

  1. पेशाब में लगभग 3,000 घटक होते हैं, इसमें 95% पानी, 2.5% यूरिया और 2.5% नमक, हार्मोन्स और कुछ पोषक तत्वों का मिश्रण होता है |

 

  1. पूरे जीवनकाल में आपकी किडनी करीब 10 लाख गैलेन ( 37 लाख लीटर ) पानी को पेशाब में बदल देती है, यह छोटी झील के बराबर है |

 

  1. यदि मनुष्य कभी भी पानी के बिना रेगिस्तान में खो जाता है तो उसे अपना पेशाब नहीं पीना चाहिए क्योंकि इसमें इतना नमक होता है, कि यह मनुष्य की प्यास को बुझाने की बजाय मनुष्य के शरीर में पानी की और कमी कर देगा यही कारण है कि अमेरिकी आर्मी में सैनिकों को किसी भी स्थिति में पेशाब न पीने की कड़ी सलाह दी जाती है |

 

  1. बिल्ली का पेशाब अँधेरे में भी चमकता है, क्योंकि इसमें “ PHOSPHORUS “ मौजूद होता है, जो ऑक्सीजन के संपर्क में आते ही चमकने लगता है |

 

  1. दवा बनाने में भी पेशाब का इस्तेमाल किया जाता है, “ UROKINESE “ जो हार्ट अटैक के समय खून के थक्के जमने से रोकने में मद्द करती है |

 

  1. एक जवान आदमी 1 साल में पेशाब के जरिए इतनी हाइड्रोजन पैदा कर देता है, जो एक कार को 2698 KM  चलाने के लिए काफी है |

 

  1. फव्वारे के नीचे नहाते समय 45% ( 2 में से 1 ) और स्विमिंग पूल में नहाते समय करीब 20% ( 5 में से 1 ) लोग पेशाब कर देते हैं, स्विमिंग पूल में नहाते समय आँखों का लाल होना पेशाब और क्लोरीन के मिक्स होने के कारण ही होता है |

 

  1. भारत के PM “ MORAR JI DESAI “ ने एक बार खुद का पेशाब पिया था |

 

  1. 2ND WORLD WAR के दौरान क्लोरीन गैस से बचने के लिए सैनिकों को पेशाब से भीगा हुआ कपड़ा मुँह पर बाँधने की सलाह दी जाती थी |

 

  1. “ स्वीडन “ देश में जल्द ही एक क़ानून बनेगा जिसके अनुसार पब्लिक टॉयलेट में पुरुषों को हमेशा बैठ कर पेशाब करना होगा |

 

  1. बहुत से लोगों “ SHY BLADDER SYNDROME “ होता है, जिससे इन्हें खुले में पेशाब करने में शर्म महसूस होती है और कई बार तो यह खुले में पेशाब कर ही नहीं पाते, इन्हें लगता है, कोई हमें देख रहा है, विज्ञान की भाषा में इस डर को “ PARURESIS “ कहा जाता है |

 

  1. “ PHOSPHORUS “ की खोज पेशाब के गर्म करने पर हुई थी, दरअसल सन 1669 में जर्मनी के “ HENNIG BRAND “ ने सोना निकालने के लिए 60 बाल्टी पेशाब को गर्म किया था, उनका मानना था कि पेशाब पीला होता है इसलिए इसमें कीमती धातु हो सकती है, लेकिन जब इसे गर्म किया गया तो आखिर में एक ऐसी चीज बची जो अँधेरे में चमकती थी और इसे “ PHOSPHORUS “ नाम दिया गया |

 

  1. पुरुषों के शरीर से कभी भी वीर्य और पेशाब एक साथ नहीं निकल सकते, क्योंकि वीर्य निकलते समय एक मांसपेशी के सिकुड़ने की वजह से पेशाब थैली का रास्ता बंद हो जाता है और यह वीर्य निकलने के कुछ समय बाद तक भी बंद ही रहता है, कभी सेक्स या हस्तमैथुन करके तुरंत पेशाब करने की ट्राई कीजियेगा, सब पता चल जाएगा यही कारण है की लिंग से पेशाब और स्पर्म एक समय पर नहीं निकल सकते, लेकिन अगर पेशाब करने से पहले थोड़ी उत्तेजना हो जाए तो पेशाब के साथ पानी जैसा सफेद LIQUID भी पेनिस से गिरता है, दरअसल यह वीर्य नहीं बल्कि इसे “ PRE-CUM “ कहा जाता है, इसमें मरे हुए शुक्राणु होते हैं और इससे महिला गर्भवती भी नहीं हो सकती |

 

  1. यह बात अपने दिमाग से निकाल दे, कि लड़कियां अपनी योनि से पेशाब करती हैं, बल्कि इनकी योनि में दो सुराग होते हैं एक पेशाब करने के लिए और दूसरा केवल सेक्स करने के लिए पेशाब करने वाला सुराग सेक्स करने वाले से सुराग थोड़ा ऊपर होता है |

 

  1. अंटार्कटिका के ग्लेशियरों में जमे हुए कुल बर्फ का 3% भाग पेंगुइनो का पेशाब है |

 

  1. एक ही समय पर खून देना और पेशाब करना असंभव है |

 

  1. नासा ने  एक ऐसी मशीन बनाई है जो अंतरिक्ष यात्रियों के पेशाब को पीने के पानी योग्य बनाती है और यह पानी अमेरिका के नल के पानी से भी शुद्ध होता है |

 

  1. यह बात सच है कि पेशाब में बैक्टीरिया नहीं होते  लेकिन केवल तब तक जब तक यह ब्लैडर में रहता है, जैसे ही मूत्र मूत्रमार्ग या हवा के संपर्क में आता है इसमें बैक्टीरिया समा जाते  हैं |

 

  1. हमारे शरीर के अंदरूनी तापमान की वजह से हमारा पेशाब गर्म होता है और सर्दियों में तो इससे भाप भी निकलने लगती है |

 

  1. पेशाब में जलन का इलाज : पतली छाछ ( लस्सी ) में चुटकी भर सोडा डालकर पीने से पेशाब में जलन दूर हो जाती है |

 

  1. खड़े होकर पेशाब करने से पुरुषों का सेक्स टाइम कम हो जाता है, जो लोग बैठ कर पेशाब करते हैं, उनका सेक्स टाइम ज्यादा होता है, क्योंकि खड़े होकर पेशाब करने से मूत्राशय सही से खाली नहीं हो पाता और ऐसा बार-बार होने से “ PROSTRATE GLAND “ खराब होने लगती है |

 

  1. यदि हँसते, छींकते और व्यायाम करते समय थोड़ा पेशाब निकल जाए तो उसे “ STRESS URINARY INCONTINENCE “ कहा जाता है |

 

  1. गर्भवती महिला को बार-बार पेशाब आता है क्योंकि जैसे ही भ्रूण बड़ा होता है, वो ब्लैडर के साइज को कम कर देता है, जिससे उसमें कम पेशाब स्टोर हो पाता है |

 

  1. महिलाओं को सेक्स के बाद पेशाब कर लेना चाहिए, क्योंकि महिलाओं की योनि में पहले से ही बैक्टीरिया मौजूद होते हैं, जो सेक्स के दौरान मूत्रमार्ग ( URETHRA TUBE ) के जरिए ब्लैडर ( पेशाब की थैली ) तक चले जाते हैं, जिससे इन्फैक्शन होने का खतरा रहता है |

 

  1. करीब 200 साल पहले, यूरोपियन महिलाएं पेशाब खड़े होकर करती थीं, क्योंकि वे लम्बे कपड़े पहनती थी और इसके नीचे कोई जांघिया वगैरह नहीं पहनती थी |

 

  1. कनाडा में हर साल करीब 225 आदमी नाव पर खड़े होकर पेशाब करने के चक्कर में पैर फिसलकर गिर जाते हैं और डूब जाते हैं |

 

  1. प्राचीन रोम के जासूस दस्तावेजों के बीच में रहस्यों को लिखने के लिए पेशाब को अद्रश्य स्याही के रूप में इस्तेमाल करते थे, यह मैसेज तभी देखते थे जब इन्हें गर्म किया जाता था |

 

  1. भालू जब शीतनिन्द्रा में होते हैं, तो कभी पेशाब नहीं करते, फिर चांहे यह 6 महीने लम्बी क्यों न हो, शीतनिन्द्रा के समय भालू का शरीर पेशाब को प्रोटीन में बदलकर भोजन के रूप में इस्तेमाल कर लेता है |

 

  1. लड़ाकू विमान के पायलट पेशाब करने के लिए एक बैग जैसा कुछ पहनते हैं जिसे, “ PDDLE-PACK “ कहा जाता है |

 

  1. साँपों में पेशाब इक्ट्ठा करने वाली थैली नहीं होती इसलिए इनका जैसे ही पेशाब बनता है, यह तुरंत निकल जाता है |

  

  1. आपको जानकार हैरानी होगी कि पक्षियों में पेशाब और लैटरिंग करने के लिए एक ही रास्ता होता है, लेकिन यह पेशाब ठोस के रूप में करते हैं, मुर्गे, कबूतर, बगैरह की लैटरिंग को कभी ध्यान से देखना आपको इसमें सफेद-सफेद सा कुछ दिखाई देगा और वो इनका पेशाब होता है

 

 

 

 

 

    

 

  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

0 Shares
Share
+1
Share
Tweet
Pin